[ad_1]

एनआईटी कालीकट के शोधकर्ता एक स्मार्ट सोलर स्टोव लेकर आए हैं, जिसकी कोई परिचालन लागत नहीं है, जिसमें घरों, रेस्तरां और सड़क किनारे विक्रेताओं के लिए कई संस्करण हैं।

टीतरल पेट्रोलियम गैस (एलपीजी) की बढ़ती कीमतों से निपटने के लिए एनआईटी कालीकट के शोधकर्ताओं ने एक आविष्कार किया है स्मार्ट समाधान – एक स्टोव जो किसी भी निकास गैस का उत्पादन नहीं करता है। इसे ‘स्मार्ट सोलर स्टोव’ कहा जाता है, इसका उपयोग घरेलू रसोई और सड़क किनारे भोजनालयों में किया जा सकता है।

जबकि स्टोव का सिद्धांत पर्यावरण-अनुकूल इंडक्शन के समान है, कई संस्करण मौजूद हैं। इनके बारे में दिलचस्प बात यह है कि स्टोव खरीदने के बाद इनकी कोई परिचालन लागत नहीं आती है।

एकल स्टोव संस्करण इसका उपयोग घरेलू खाना पकाने के लिए किया जा सकता है, जबकि इसका समकक्ष, डबल स्टोव संस्करण खाना पकाने के लिए अधिक लचीलापन प्रदान करता है। संस्थान का कहना है कि इन दोनों संस्करणों को सीधे सूर्य के नीचे इस्तेमाल किया जा सकता है।

दूसरा संस्करण अधिक विक्रेता-केंद्रित है। यह एक एलईडी लैंप के साथ आता है – जो अंधेरे के बाद काम करने वाले विक्रेताओं के लिए एक वरदान है।

यह मॉडल यात्रियों के लिए भी एक बढ़िया विकल्प है क्योंकि यह फोल्डेबल सोलर पैनल के साथ आता है।

डिवाइस की कीमत सिंगल स्टोव संस्करण के लिए 10,000 रुपये और डबल स्टोव संस्करण के साथ-साथ एलईडी लैंप संस्करण के लिए 15,000 रुपये है।

यहां बताया गया है कि यह धुआं रहित मॉडल भोजनालयों में खाना पकाने के तरीके को कैसे बदल सकता है।



[ad_2]

Source link

Categorized in: